Top 10 Defense Intelligence Agency of World दुनिया की 10 सबसे शक्तिशाली इंटेलिजेंस एजेंसी

Top 10 Secret Intelligence Agency- अमेरिका की CIA से भी बेहतर है ये खुफिया एजेंसी

Defense Intelligence Agency

आज के era में कहा जा सकता है कि हम state of war में जी रहे हैं. कभी भी कोई भी खतरनाक हमला किसी भी तरफ से हो सकता है और ये एक युद्ध की शक्ल ले सकता है. एक युद्ध में हमें किन चीजों की जरूरत पड़ती है? अच्छे सैनिक अच्छे हथियार और? ये सब वो चीजें होती हैं जिनसे आमने- सामने के युद्ध जीते जाते हैं लेकिन युद्ध को असल में जीतने के लिए जरूरत पड़ती है सीक्रेट जानकारियों की जिनमें छुपी होती है दुश्मन की कमजोरी. पुराने जमाने में ये कमियां जानने के लिए राजा महाराजा गुप्तचर रखा करते थे, लेकिन इस जमाने में ये जानकारी हासिल करती हैं Secret Intelligence Agencies. क्या आप जानना चाहते हैं  “Top 10 Defense Intelligence Agency of World” कौन सी है? जानने के लिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

10 Secret Agency of World: Which place is of Indian National Agency RAW?

Defense Intelligence Agency

#10. Ministry Of State Service (MSS)- मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सर्विस: Chinese Intelligence Agency

1938 में गठित की गई मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सर्विस, चाइना की सिक्युरिटी और इंटेलिजेंस एजेंसी है. इसका मुख्यालय Beijing में है और लगभग 17 और ब्रांच हैं जहां पर इसका काम देखा जाता है. इसे MSS भी कहते हैं. दोस्तों जैसा कि आप जानते ही हैं चाइना में इंटरनेट बहुत मेजर रोल प्ले करता है. उन्होने इंटरनेट पर कई सारी बंदिशें भी लगा रखी हैं, और कोई इन्हे तोड़ता है या नहीं इसका पता लगाने के लिए बनाया गया हैं मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सर्विस को. MSS का प्रमुख काम है इंटरनेट को सेंसर करना ताकि कोई भी इंटरनेट के जरिये भड़काऊ बयान ना दे सके और ऐसा कुछ भी ना फैले जिससे कि देश में अशांति का माहौल बने. ये एजेंसी चाइना के अंदर और बाहर बहुत पैनी नज़र रखती है, जिससे कि चाइना को किसी भी तरह का खतरा ना हो सके. MSS  में लगभग 1 लाख से भी ज्यादा employee हैं जो कि चाइना के अंदर और बाहर रहकर यह सुनिश्चित करते हैं कि चाइना को कोई खतरा ना हो. 

#9. Australian Secret Intelligence Agency (ASIA)- ऑस्ट्रेलियन सीक्रेट इंटेलिजेंस एजेंसी: Australian Intelligence Agency

हमारी लिस्ट में नौवे नंबर पर है ऑस्ट्रेलिया कि सीक्रेट एजेंसी. इस एजेंसी का मुख्यालय Canberra में है. ये इंटरनल और एक्सटर्नल दोनों ही तरह के खतरों से निबटने में कारगर है. इसका गठन किया गया था साल 1952 में. और इसे लगभग 1972 तक गुप्त रखा गया था हालांकि बीतते हुए सालों में इसका खुलासा लोगों को सामने हुआ और लोग गर्व और हैरत से भर गए. इस एजेंसी ने ऑस्ट्रेलिया में शांति बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है. इसने ऐसे कई आंदोलन कुचले हैं जो कि देश विरोधी थे और अगर चल जाते तो ऑस्ट्रेलिया का सत्यानाश हो जाता. 

Secret Intelligence Service

#8. Canadian Security Intelligence Service (CSIS) – कनाडियन सिक्योरिटी इंटेलीजेंस सर्विस: Canadian Intelligence Agency

जैसा कि इसके नाम से आप समझ ही गए होंगे. यह एजेंसी कनाडा की इंटेलिजेंस एजेंसी है. कनाडा के बारे मे आप जानते ही होंगे कि कनाडा दुनिया के सबसे सुरक्षित देशों में से एक है और वहां पर लोग पलायन करना पसंद करते हैं. कनाडा को दुनिया का सबसे सुरक्षित बनाने के पीछे कनाडियन सिक्योरिटी एजेंसी का बहुत बड़ा हाथ है. कनाडा की यह एजेंसी Five eye Program में भी कनाडा को रिप्रेजेंटे करती है. ये फाइव आई प्रोग्राम पांच इंटेलिजेंस एजेंसीयों का गठबंधन है जिसमे यूएस, यूके, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड शामिल है. इसमे न्यूजीलैंड को छोड़कर बाकी सभी देश की सीक्रेट एजेंसी दुनिया की दस सबसे शक्तिशाली एजेंसी में से एक है. यानी कि फाइव आई को दुनिया की सबसे शक्तिशाली एजेंसी कहा जा सकता है.

#7. Directorate-General for External Security – (DGES): French Intelligence Agency

फ्रांस की इंटेलिजेंस एजेंसी है DGES यानी कि डायरेक्टरेट जनरल फॉर एक्सटर्नल सिक्योरिटी. ये फ्रांस के लिए उसी तरह काम करती है जिस तरह से CIA अमेरिका के लिए काम करती है. यह फ्रांस के एक्सटर्नल और इंटरनल दोनों ही तरह के मुद्दों को सुलझाती है. यह कहा जा सकता है कि फ्रांस को अपने दुश्मनों से बचाने में DGES ने बहुत बड़ा रोल प्ले किया है. हालांकि सिविल वार से पहले इस एजेंसी पर इतना भरोसा नहीं जताया जाता था लेकिन सिविल वार के बाद से ही DGES पर भरोसा जताया जाता रहा है. सिविल वार में एजेंसी ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई थी. ये एजेंसी गुप्त चर तकनीक पर विश्वास करती है. 

#6. Research and analysis Wing (RAW) – रिसर्च एंड एनालिसिस विंग: Indian Intelligence Agency

हमारी लिस्ट में छठे नंबर पर है इंडिया की रिसर्च एंड एनालिसिस विंग. यानी कि RAW. रॉ के नाम में ना कहीं पर इंटेलिजेंस है और ना ही इंडिया का नाम है. ऐसा इसलिए क्योंकि कोई बाहरी ये सोचे कि ये सिर्फ एक सिंपल सा नॉन- गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशन है. लेकिन इसके नाम पर मत जाइए बॉस, इस एजेंसी का नाम दुनिया की टॉप 10 एजेंसी में यूं हीं नहीं लिया जाता. RAW का गठन 1968 में किया गया था. इसका वही उद्देश्य था जो कि किसी भी इंटेलिजेंस एजेंसी का होता है. दुश्मनों के गहरे से गहरे राज जानना. और उसके साथ ही इंडिया की प्रोटेक्शन. कई सारे ऐसे संगठन हैं जो कि इंडिया के बाहर से इंडिया में इनडायरेक्टली सेंध लगाने की कोशिश करते हैं और रॉ का काम है कि वो उन सभी संगठनों को तहस- नहस कर दे और रॉ ने बीते कई सालों में ऐसा ही किया है. साथ ही साथ RAW का विश्व की दूसरी बड़ी सीक्रेट एजेंसी के साथ भी अच्छी बातचीत है जिससे कि जरूरी इन्फॉर्मेशन वो एक दूसरे के साथ साझा कर सकते हैं. ऐसी एजेंसी में रूस की Mossad और अमेरिका की CIA का नाम भी शामिल है, जिनके बारे में हम आगे के पॉइंट्स में जानेंगे. 

Defense Intelligence Agency

#5. Federal intelligence Service (FIS) – फेडरल इंटेलिजेंस सर्विस: German Intelligence Agency

You may also like: Top 10 countries that will help India in war- कौन से हैं वो देश जो इंडिया की युद्ध में करेंगे मदद

हमारी लिस्ट में पांचवे नंबर पर है जर्मनी की इंटेलिजेंस सर्विस. इसका गठन 1956 में किया गया था. जर्मनी की इस एजेंसी को देश को किसी भी तरह के युद्ध से बचाने के लिए बनाया गया था. ये एक्सटर्नल और इंटरनल अफेयर्स के साथ देश की मिलिट्री सर्विस को भी देखती है. इसे BND भी कहा जाता है. इस एजेंसी के निशाने पर वो देश रहते हैं जिनके पास न्यूक्लियर शक्तियां हैं क्योंकि अगर विश्व युद्ध हुआ तो न्यूक्लियर एक बहुत बड़ा रोल प्ले करेगा. इसके अलावा FIS ने जर्मनी को कई सारे केसेस में बहुत ही शातिर तरीके से बचाया है और इन्ही के कारण ये तेज़ी से popular होती गई और हमारी लिस्ट में ये RAW से भी आगे पांचवे नंबर पर मौजूद है. 

#4. Central Intelligence Service (CIA) – सेंट्रल इंटेलिजेंस सर्विस: American Intelligence Agency (USA)

CIA. इस नाम का जिक्र आपने कई सारी हॉलीवुड मूवीज और नॉवल में पढ़ा होगा. ये एक ऐसा नाम है जो बड़े से बड़े गैर कानूनी संगठन को डरा देता है. दुनिया में मौजूद कोई भी इंसान CIA से उलझना नहीं चाहता. ऐसी legacy है अमेरिका की CIA की. सीआइए का गठन 1947 में किया गया था. सीआइए दुनिया की सबसे पुरानी सीक्रेट एजेंसी में से एक है. इस एजेंसी का गठन किया गया था ताकि ये अमेरिका के खिलाफ होने वाली गतिविधियों पर नज़र रखे और समय समय पर उनका पर्दाफाश करती रहे और गुजरते सालों में CIA ने ऐसा किया भी है. ये एजेंसी दुनिया के खूंखार गुनाहगारों का खात्मा करने में सफल रही है जिस वजह से इसका नाम हमारी इस लिस्ट में है. अपने गठन के शुरुआती सालों में तो यह किसी काम की नज़र नहीं आ रही थी लेकिन पिछले दस सालों में जब से इंटरनेट आया है इसने ऐसा प्रभाव डाला है कि ये हर सीक्रेट एजेंसी के लिए एक मिसाल बन गई है. 

Defense Intelligence Agency

#3. Foreign Intelligence Service (FIS) – फॉरेन इंटेलीजेंस सर्विस : Russian Intelligence Agency

फॉरेन इंटेलिजेंस सर्विस रूस की इंटेलिजेंस सर्विस है. ये मुख्य तौर पर रूस के एक्सटर्नल अफेयर्स ही देखती है लेकिन पिछले कई सालों से इसकी बढ़ती प्रसिद्धि के कारण इसे इंटरनल अफेयर्स से जुड़े case भी दिए जाते रहे हैं. रूस के लिए इंटरनल अफेयर्स को Federal Security Service द्वारा देखा जाता है. रूस एक बहुत बड़ा देश है. इसकी सीमाएं कई देशों से लगती हैं इसलिए ऐसे देश में फॉरेन इंटेलीजेंस सर्विस का स्ट्रॉंग होना बहुत ज्यादा जरूरी है. फॉरेन इंटेलिजेंस सर्विस का मुख्यालय मॉस्को में है. रूस की सीमाएं सबसे ज्यादा चाइना से लगी हुई हैं लेकिन रूस और चाइना के मैत्री संबंधो के कारण यह कहा जा सकता है रूस की सीक्रेट एजेंसी को चाइना की एजेंसी की भरपूर मदद मिलती होगी. 

#2. Secret Intelligence Service (SIS) – सीक्रेट इंटेलीजेंस सर्विस: British Intelligence Agency (UK)

सीक्रेट इंटेलिजेंस सर्विस, इंग्लैंड की फॉरेन इंटेलिजेंस एजेंसी है. इसे आम तौर पर M1-6 के नाम से जाना जाता है. ये एजेंसी दुनिया की सबसे शक्तिशाली एजेंसी में से एक है. इसके फेमस होने का कारण ये भी है इंग्लैंड की इस एजेंसी का जेम्स बॉन्ड की फिल्मों में बहुत बार नाम लिया गया है. ये एजेंसी यूनाइटेड किंगडम द्वारा स्थापित की गई थी. ये एक्सटर्नल अफेयर्स से डील करती है, वहीं M1-5 का काम देश के इंटरनल मैटर सुलझाना है. इसे इस तरह से समझा जा सकता है, जैसे इंडिया में RAW और CBI हैं उसी तरह से यूके में भी यह सिस्टम बनाया गया है. M1-6 का फोकस मुख्य तौर पर ड्रग और न्यूक्लियर पर ज्यादा रहता है. इसकी दूसरे देशों की इंटेलिजेंस सर्विस से भी काफी अच्छी सांठ- गांठ है जिससे कि UK का दुश्मन चाहे दुनिया के किसी भी कोने में क्यों ना छुपा हो, बच नहीं पाता. M1-6 के गठन को लगभग 100 साल से ज्यादा हो चुके हैं. कई बार इसके ऑपरेशन करने के तरीकों पर भी सवाल उठ चुके हैं लेकिन ये UK का बहुत महत्वपूर्ण हथियार है. 

#1. Mossad – मोसाद: Israeli National Intelligence Agency

आपने सोचा था कि पहले नंबर पर CIA होगी या फिर होगी RAW. लेकिन आप गलत निकले. पहले नंबर पर है Mossad. ये एजेंसी नंबर वन पर है फिर भी आप इसे नहीं जानते. यही इसकी सबसे बड़ी सफलता है क्योंकि अगर एक सीक्रेट एजेंसी सीक्रेट ही ना रहे तो वह सीक्रेट एजेंसी किस काम की. अब आप guess कीजिए कि यह किस देश से है? मोसाद है Israel की. इजराइल जो कि एक छोटा सा देश होने के बावजूद दुनिया के दस सबसे ज्यादा ताकतवर देशों में से एक माना जाता है. इजराइल एक स्ट्रॉंग देश बनकर उभरा है उसके मोसाद का भी बहुत बड़ा हाथ है. इजराइल के बारे में अगर आप जानते हों तो ये एक ऐसा देश रहा है जिसे कई सारे युद्धों का सामना करना पड़ा है और जैसा कि मैं आपको बता चुका हूं युद्ध जीतने के लिए आपके पास तेज़ हथियार या फिर अच्छे योद्धा ही नहीं दुश्मन के राज़ भी होने चाहिए. और इजराइल की इसी नीति को अपनाते हुए मोसाद ने इजराइल की काफी मदद की है और इस लिस्ट में पहले नंबर पर जगह बनाई. 

Secret Intelligence Agency
S

तो दोस्तों ये थी दुनिया की Top 10 Defense Intelligence Agencies. आपको ये आर्टिकल कैसा लगा, हमें कमेन्ट करके जरूर बताएं. और अगर आप ऐसे ही और भी आर्टिकल पढ़ना पसंद करते हैं तो हमारे ब्लॉग INKLAB को फॉलो करना न भूलें।

Leave a Reply