Omg! These are the 10 Best Powerful Battleships Ever! अब तक के सबसे बेहतरीन बैटलशिप

TOP 10 Best Powerful Battleships Ever – बोइंग को गिरा सकते हैं ये शानदार बैटल शिप 

कोई भी देश जब युद्ध करता है, तब उसे जीतने के लिए शानदार हथियारों और लड़ाकू ट्रांसपोर्ट की जरूरत पड़ती है, और ऐसे में बैटल शिप एक बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं. दोस्तों बैटल शिप, समुद्र में किसी बहुत बड़े राक्षस की तरह से चलते हैं और अपनी तोपों से बड़े बड़े फाइटर प्लेन्स को जलाकर राख कर देने की ताकत रखते हैं. हम आज आपके लिए लेकर आए हैं, 10 Best Powerful Battleships Ever! यानी कि 10 सबसे बेहतरीन युद्धपोत. इनके बारे में जानने के लिए आर्टिकल को पूरा जरूर पढें और पोस्ट में आगे बढ़ने से पहले हमारे ब्लॉग  INK LAB को फॉलो करना ना भूलें. 

10) INS Vikrant Battleship- Indian Navy- आईएनएस विक्रांत (1961)

Powerful Battleships Ever
INS Vikrant- INDIA
P.C.- In.pinterest.com

भारत का सबसे पहला बैटलशिप हमारा अपना आईएनएस विक्रांत. ये बैटलशिप इस लिस्ट में मौजूद सभी बैटलशिप से लगभग 10 साल आगे का है लेकिन भारत का सबसे पहला बैटलशिप होने के नाते यह शिप यहां होना डिजर्व करता है. आईएनएस विक्रांत के किस्से तो आपने सुने ही होंगे. इसने भारतीय नौ सेना को 1961 में जॉइन किया था. ये एक बैटलशिप से ज्यादा एडवांस था और एक एयर क्राफ्ट करियर था. लेकिन उस दौर से जुड़े रहने के कारण इसे एक महान बैटलशिप की नजर से देखा जाता है. ये एडवांस था और समुद्र में काफी एलिगेंट नज़र आता था. 

9) Littorio Class Battleship- Italian Navy- लिटोरियो क्लास (1938) 

अब बात करेंगे इटालियन नेवी के सबसे ताकतवर बैटल शिप की. लिटोरियो क्लास. लिटोरियो क्लास लगभग 45 हजार टन से भी ज्यादा भारी था और इसकी लंबाई 240 मीटर थी. दोस्तों इसे बनाना शुरू किया गया था, 18 सितम्बर 1938 को और उसके बाद ये लगभग 5 सालों में बन गया. ऐसा बैटलशिप होना बहुत प्राइड की बात थी, क्योंकि ये बैटलशिप 30 नोट की स्पीड से चल सकता था और इस पर लगभग 9 इंच की 15 आर्मर बंदूकें लोडेड थीं. बाद में भी इटली ने इससे अच्छे बैटलशिप बनाने की कोशिश की, लेकिन ऐसा battleship वो फिर नही बना पाए और उन्हे इसकी Sister Ship Roma को बना के संतुष्ट होना पड़ा, जो कि कई मामलों में इससे कमतर थी, लेकिन उसमें खासियत थी कि वह light anti air gun से लैस थी. 

Also read: TOP 10 MOST POWERFUL PERSONS IN THE WORLD- दुनिया के 10 सबसे शक्तिशाली लोग

8) Nagato Class Battleship- Japanese Navy- नगाटो क्लास (1920) 

हमारी इस लिस्ट में मौजूद सबसे पुराने शिप की बात करते हैं, बात करते हैं नगाटो की. ये एक जापानी शिप था. ये 1920 वाले दशक में बनकर तैयार हुआ था. इसकी लंबाई लगभग 225 मीटर थी और इसकी चाल तकरीबन 25 नॉट थी. इसके ऊपर लगभग 816 पॉइंट, 1 इंच की बंदूकें मौजूद रहती थीं. नगाटो को 1920 में बनाया गया था, इसलिए उसे बार बार मोडिफाई करते रहने की जरूरत थी और उसे बार बार मोडिफाई किया जाता रहा. तब तक, जब तक की उसने विश्व युद्ध द्वितीय पूरी तरह से सर्वाइव नहीं कर लिया. जब नगाटो को बनाया गया था, तब ये लगभग 45 हजार 950 लॉन्गटन का था और द्वितीय विश्व युद्ध खत्म होते होते इसने 46 हजार लॉन्ग टन खत्म कर लिए थे. 

7) South Dakota Class Battleship- US Navy- साउथ डकोटा क्लास (1939)

बात करते हैं हमारे लिस्ट के सातवें नंबर के battleship की. साउथ डकोटा क्लास की. ये लगभग 46 हजार 200 लॉन्ग टन की थी. इन्हे बनाया गया था यूनाइटेड स्टेटस द्वारा. जब साउथ डकोटा को बनाया गया तब नॉर्थ कैरोलिना और उसकी सिस्टर शिप काम पर थीं लेकिन यूएस उनसे संतुष्ट नहीं था. उसे और भी कुछ चाहिए था और उनकी इस असंतुष्टि के कारण साउथ डकोटा क्लास का निर्माण हुआ. इसे यह सोचकर बनाया गया था कि ये नॉर्थ कैरोलिना के पूरक के रूप में काम करेगा, लेकिन फिर तो ये इतना शानदार बन गया कि हमारी लिस्ट में सातवें नंबर पर है. ये नार्थ कैरोलिना का न्यू वर्जन था लेकिन इसमें 16 इंच की नौ बंदूकें थीं जिनके कारण ये नॉर्थ कैरोलिना से बेहतर साबित हुआ. 

6) North Carolina Class Battleship- US Navy- नॉर्थ कैरोलिना क्लास (1935)

नॉर्थ कैरोलिना और यूएसएस वाशिंग्टन यूनाइटेड स्टेटस द्वारा बनाए गए फाइनल जनरेशन के बैटल शिप थे. नॉर्थ कैरोलिना लगभग 46 हजार 700 लॉन्ग टन की थी. उसकी लंबाई थी तकरीबन 222 मीटर. ये कहा जा सकता है कि नॉर्थ कैरोलिना और यूएसएस वाशिंग्टन, दोनों ही सिस्टर्स साउथ डकोटा का ही ओल्ड वर्जन थीं. नॉर्थ कैरोलिना का निर्माण 1935 में शुरू हुआ और अगले कुछ ही सालों में ये बनकर तैयार हो गई. नॉर्थ कैरोलिना अधिक से अधिक केवल 27 नॉट की स्पीड से ही चल सकती थी. ये स्पीड उस समय के हिसाब से बहुत ज्यादा थी लेकिन जैसे जैसे प्रतियोगिता बढ़ रही थी जानकारों ने कह दिया था कि नॉर्थ कैरोलिना की स्पीड ही उसकी सबसे बड़ी दिक्कत बनेगी. 

5) Richelieu Class Battleship- French Navy- रिसेल्यु क्लास (1940)

रिसेल्यु क्लास को बनाना शुरू किया गया था, अक्टूबर 1935 में और इसे लगभग 1940 तक बना कर खत्म कर दिया गया था. इसकी ऊंचाई थी 813 मीटर. रिसेल्यु अपनी सर्विसेज दे रहा था फ्रांस को. उस समय जब ये द्वितीय विश्व युद्ध लड़ रहा था, ये उतना भयानक और एलिगेंट नहीं था कि इसे हमारी लिस्ट में पांचवें नंबर पर जगह मिले. लेकिन इसकी सिस्टर शिप यानी कि जीन बार्ट काफी खूंखार और शानदार थी, लेकिन रिसेल्यु में मोडिफाई होता गया, सब कुछ और ये एक टॉप क्लास बैटल शिप बन गया. रिसेल्यु 48 हजार 180 लॉन्ग टन की थी, लेकिन फ्रांसीसी नौ सेना ने पूरी तरह से कोशिश की थी, किसी भी तरह उसका वजन कम ही रखा जाए. उसके अंदर मौजूद armour belt को छोटा कर दिया गया था और बस 18 ही 15 इंची गन्स को रखा गया था. इसका उन्हे भरपूर फायदा भी देखने को मिला. 

Read Also: Top 10 fighter helicopter in the world दुनिया के 10 सबसे ताकतवर शानदार लड़ाकू हेलिकॉप्टर

4) HMS Vanguard Battleship- British Navy- एचएमएस वैनगार्ड (1946)

Powerful Battleships Ever
HMS Vanguard Battleship- Britain
P.C.- shutterstock.com

चौथे नंबर पर है दुनिया का आखिरी बैटलशिप और रॉयल आर्मी द्वारा बनाया गया आखिरी बैटलशिप. ये बैटलशिप समुद्र पर राज करता था, क्योंकि जब तक ये बन कर पूरा हुआ तब तक टेक्नोलॉजी बहुत आगे बढ़ चुकी थी और टेक्नोलॉजी के मामले में ये किसी भी बैटलशिप से कई गुना आगे था. रॉयल आर्मी को पता था कि जापान और जर्मनी के पास बहुत बेहतरीन बैटल शिप हैं और ये बैटलशिप उन्ही दोनों को ठिकाने लगाने के लिए बनाया गया था. इसे देखने वाले इसे लायन बैटलशिप या लायनशिप कह कर पुकारते थे. इसके पीछे वजह थी इसके चलते समय होने वाली आवाज़, जिसे इसके प्रशंसक शेर की दहाड़ कहा करते थे. वैनगार्ड की लंबाई लगभग 248 मीटर थी और ये 51 हजार 420 लॉन्ग टन का था. इसे 2 अक्टूबर को बनाना शुरू किया गया था और ये लगभग 5 साल बाद यानी कि 12 मई 1946 में बनकर खत्म हुआ था. ये तरह तरह के अलग अलग हथियारों से लैस था जिसमें विश्व युद्ध प्रथम की 15 इंची बंदूकें भी शामिल थीं, हालांकि इन सब का किसी भी तरह से यूज नहीं किया जा सका क्योंकि वैनगार्ड को पूरा होते होते बहुत टाईम लग गया था और इस कारण वो विश्व युद्ध के दौरान मोडिफाई ही होता रहा. 

3) Bismarck Class Battleship- German Navy- बिस्मार्क क्लास (1936)

बिस्मार्क को बनाना शुरू किया गया था 1936 में और इसे बनाया जा रहा था जर्मन नौसेना के लिए. बिस्मार्क को जब बनाया गया तब ये इतना शानदार नहीं था कि उसे इस लिस्ट में जगह मिल पाती लेकिन जैसे जैसे युद्ध आगे बढ़ता गया, वैसे वैसे इसमें तरह तरह के बदलाव होते चले गए और धीरे धीरे ये किसी भी यूरोपियन देश द्वारा प्रयोग किया गया सबसे ज्यादा भारी बैटल शिप बन गया था. ये लगभग 51 हजार 800 लॉन्ग टन का था. इसको पांच सालों में पूरा बनाया जा सका था. इसकी लंबाई लगभग 251 मीटर थी. बिस्मार्क के अंदर 15 इंच की आठ गन थीं. बिस्मार्क को जब बनाया गया, तब उस पर किसी को इतना भरोसा नहीं था, और सभी को ऐसा लगता था कि बिस्मार्क की सिस्टरशिप Tirptiz ज्यादा तहस नहस कर सकती है. लेकिन युद्ध के दौरान जैसा कि आप जानते ही बिस्मार्क को मोडिफाई किया गया और Tirptiz से लगभग 23 सौ ज्यादा टन बिस्मार्क के पास आ गए. 

2) Lowa Class Battleship- US Navy – लोवा क्लास (1939)

 Powerful Battleships Ever
Lowa Class Battleship- United States
P.C.- pinterest.com

यूनाइटेड स्टेट्स की नेवी द्वारा आखिरी पूरे किए गए बैटलशिप में से एक था लोवा क्लास. लोवा क्लास के बैटलशिप बड़े थे, शानदार थे और यूनाइटेड स्टेटस के बनाए गए अब तक के सभी बैटलशिप में से सबसे हेवी थे. लोवा क्लास का वजन था 57 हजार टन. लोवा क्लास की अधिकतम स्पीड होती थी 32.5 नॉट. लोवा क्लास तरह तरह के आधुनिक हथियारों से लैस था. उसकी ऊंचाई लगभग 270 मीटर लंबी थी. लोवा को बनाते समय यह ध्यान में रखा गया था कि जब ये Japanese Kongo जहाजों से टकराए तो ये अच्छी तरह से वर्क करे और जब पलटने का डर हो या फिर हमले से बचने का समय हो तब ये तेज़ भी भाग सके. इन सभी के साथ ही लोवा क्लास को जाना जाता है उसकी सर्विसेस के लिए. विश्व युद्ध में लोवा क्लास ने अमेरिका का परचम लहराया था और विश्व युद्ध के दौरान लगभग हर देश ने लोवा जैसा बैटल शिप बनाने की कोशिश की थी. 

1) Yamato Class Battleship- (Best Battleship Ever)- Japanese Navy – यमाटो क्लास (1941)

तो अब बात करते हैं हमारी लिस्ट के नंबर वन की. हमारी लिस्ट में नंबर वन पर है यामाटो. दुनिया में बनाया गया अब तक का सबसे ज्यादा शक्तिशाली बैटल शिप. इस बैटल शिप की सीरीज का कोई भी शिप जब भी समुद्र में आया तब तब इसने समुद्र पर केवल राज़ किया है. यामाटो का वजन लगभग 71 हज़ार 659 टन है. इसकी लेंथ लगभग 263 मीटर हुआ करती है. इन्हे बनाया गया था ताकि ये समुद्र में मौजूद किसी भी तरह के कॉम्पिटिशन को चुटकियों में तहस नहस कर सकें. ऐसा करने के लिए इनके ऊपर 9 बड़ी बंदूकें जिनकी लंबाई 18.1 इंच है, होती थी और साथ ही उनके ऊपर 16 इंच के Belt Armour भी रखे जाते थे. ये बहुत तेज़ चलने वाले बैटलशिप में भी गिना जाता है इसकी रफ्तार लगभग 27 नॉट हुआ करती थी. इसे 1941 में बनाकर तैयार किया गया था और इसके जैसा बैटलशिप आज तक नहीं बन पाया. बाद में कई सारे एयरकैरीयर्स इसकी नकल करके ही बनाए गए. ये कहा जा सकता है कि यमाटो जितना खूबसूरती से किसी भी बैटलशिप ने समुद्र पर राज नहीं किया, यहां तक कि उसकी शिप सिस्टर्स तक ने नहीं, जो कि लगभग उसके बराबर ही बनाई गईं थी. 

Read Also: Top 10 Amazing Military Trucks जो किसी भी युद्ध को जिता सकते हैं.

दोस्तों ये बैटलशिप World War 2 के समय के थे. हालांकि इंडिया पर उस समय ब्रिटिश शासन था, इसलिए इंडिया के पास अपना कोई शिप नहीं था, लेकिन अब इंडिया के पास शिप्स की एक बड़ी श्रंखला है. आपको ये आर्टिकल “Top 10 Best Powerful Battleships Ever!” कैसा लगा, हमे कमेंट करके जरूर बताएं और साथ ही इसे अपने जानने वालों और दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

Leave a Reply