Priyanka Gandhi Vadra: Life, Biography, Facts, Family and Politics

Priyanka Gandhi Quick Facts: Age, Education, Height, Parents (प्रियंका गांधी वाड्रा का जीवन)

Priyanka Gandhi Vadra
पूरा नाम (Full Name): प्रियंका गांधी वाड्रा  (Priyanka Gandhi Vadra) 
जन्मतिथि (Birthday):  12 जनवरी, 1972 (12 January, 1972) 
उम्र (Age): 50 साल (जनवरी 2022 में) 
पेशा (Profession):राजनेता ( Politician) 
प्रसिद्धि (Famous As):राजनीतिज्ञ और राजीव गाँधी की बेटी के रूप में (Politician And Rajiv Gandhi’s Daughter) 
पर्सनल लाइफ (Personal Life) : 
जन्मस्थान (Birthplace): नई दिल्ली, भारत (New Delhi, India) 
राशि (Zodiac Sign):मकर (Capricorn) 
राष्ट्रीयता (Nationality):भारतीय (Indian) 
धर्म (Religion):हिंदू (Hindu) 
शिक्षा (Education): बी.ए. और एम.ए. (bachelor of arts & Master of arts) 
कॉलेज (College):  दिल्ली यूनिवर्सिटी (University of Delhi) 
हॉबी (Hobbies): फोटोग्राफी, किताबें पढ़ना, वर्क आउट करना और मेडिटेशन करना ( Photography, Book reading, work out and meditation) 
रिलेशनशिप और परिवार (Relationship And Family) – 
वैवाहिक स्थिति (Marital Status): विवाहित (Married) 
जीवनसाथी (Spouse): रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) 
पिता (father):  राजीव गाँधी (Rajiv Gandhi) 
माता (Mother): सोनिया गाँधी (Sonia Gandhi) 
भाई (Brother): राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) 
संतान (Children): दो बच्चे (Two children) 
बेटा (Son):  रेहान, जन्म-2000 (Rehan, birth- 2000) 
बेटी (Daughter): मिराया, जन्म-2002 (Miraya, birth-2002) 
कुल कमाई (Net Worth) :210 करोड़ (210 Crore) 
पसंदीदा चीजें (Favorites)-
भोजन (Food):टुंडे कबाब और सलाद (Tunday Kabab And Salad) 
किताब (Book):  जवाहर लाल नेहरू की भारत की खोज ( (discovery of india by pt। Jawaharlal Nehru) 
राजनीतिक कैरियर (Political Career)- 
राजनीतिक पार्टी (Political Party): भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) 
पद (Position Held):  भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी (General Secretary Of Indian National Congress) 

Priyanka Gandhi: Early Life, Family And Political Career: (प्रियंका गांधी: घर, परिवार और राजनीतिक करियर)

उन्हें प्रियंका गाँधी (Priyanka Gandhi) कहें या प्रियंका गाँधी वाड्रा लेकिन प्रियंका ही हैं जिन्होंने गाँधी परिवार की डूबती कश्ती को उत्तर प्रदेश में सहारा दिया। पहले तो प्रियंका राजनीति से दूर थी लेकिन जब उन्हें लगा कि यूपी में कांग्रेस की सियासी नाव कुछ डगमगा रही है तो उन्होंने राजनीति में कदम रखा। आइए आपको बताते हैं प्रियंका के व्यक्तिगत जीवन से जुड़ी कुछ बातें और कैसे बीबीसी (BBC) के इंटरव्यू (interview) में राजनीति से दूरी की बात स्वीकारने वाली प्रियंका उत्तर प्रदेश की कांग्रेस महासचिव बन गयी।

Priyanka Vadra, Rahul Gandhi, Sonia Gandhi

प्रियंका गाँधी एक भारतीय राजनेता और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी की पोती हैं। उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी और माँ सोनिया गाँधी हैं। प्रियंका अपने आप में ही एक अद्वितीय व्यक्तित्व रखती हैं उनकी तुलना अक्सर उनकी दादी श्रीमति इंदिरा गाँधी जी से की जाती रही है। प्रियंका ने अपना पहला भाषण महज 16 साल की उम्र में ही दे दिया था और यही वजह है कि लोग मानते हैं कि उनके अंदर नेता बनने के गुण अंतर्निर्मित और वंशानुगत हैं। हालांकि 2019 से पहले प्रियंका राजनीति में सक्रिय रूप से शामिल नहीं थी, हाँ वे चुनावी प्रचारों में अपने भाई और माँ की मदद अवश्य किया करती थी। 

परिवार और प्रारंभिक जीवन (Priyanka Gandhi Family And Early Life)- 

प्रियंका गाँधी का जन्म 12 जनवरी 1972 को नेहरू-गाँधी परिवार में हुआ था। उनके पिता स्व। राजीव गाँधी (पूर्व प्रधानमंत्री) और माता सोनिया गाँधी हैं। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी प्रियंका के भाई हैं और वह अपने भाई राहुल गाँधी से दो साल छोटी हैं। 18 फरवरी 1997 को प्रियंका ने दिल्ली के बिजनेसमैन (businessman) रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) से शादी की। अब वह रेहान और मिराया दो बच्चों की माँ हैं। प्रियंका बचपन से ही राजनेताओं के बीच घिरी रही हैं। उनके चाची मेनका गाँधी दक्षिणपंथी राजनीतिक दल, भाजपा की राजनेता हैं और महिला एवं बाल विकास की केंद्रीय कैबिनेट मंत्री भी रह चुकी हैं। 

शिक्षा (Priyanka Gandhi’s Education)-

प्रियंका गाँधी ने अपनी प्राथमिक और उच्च शिक्षा नई दिल्ली में ही मॉडर्न स्कूल (Modern School) कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी  (Convent Of Jesus And Merry) से प्राप्त की। इसके बाद इन्होंने 2010 में साइकोलॉजी (Psychology) में स्नातक (bachelor’s) और  फिर बौद्ध अध्ययन में परास्नातक (Master’s) किया। 

राजनीतिक जीवन (Priyanka Gandhi’s Political Career)- 

Priyanka Gandhi Vadra

जनवरी 2019 से पहले प्रियंका राजनीति में सक्रिय नहीं थी लेकिन अमेठी और रायबरेली निर्वाचन क्षेत्र में वो हमेशा से ही लोकप्रिय थी। अमेठी में प्रियंका की लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अमेठी में प्रत्येक चुनाव के लिए एक बेहद लोकप्रिय नारा है “अमेठी का डंका, बिटिया प्रियंका” इसके अलावा प्रियंका गाँधी को उनकी माँ सोनिया गाँधी के मुख्य सलाहकारों में से एक भी माना जाता है। आपको शायद नहीं पता होगा कि 2004 में उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में प्रियंका अपनी माँ के प्रचार अभियान की प्रबंधक थी। प्रियंका हमेशा से ही अपने चारों ओर अपार जनता को आकर्षित करने में सफल रही हैं। 2007 में भी उत्तर प्रदेश में अमेठी व रायबरेली की 10 सीटों के लिए प्रियंका ने कांग्रेस पार्टी की मदद की थी। 2007 में जब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस हाशिए पर थी। पार्टी में कार्यकर्ताओं के बीच आवंटन को लेकर आंतरिक कलह भी चल रही थी। प्रियंका ने दो सप्ताह अमेठी में बिताकर कार्यकर्ताओं के बीच चल रहे इस विवाद को सुलझाने का प्रयास किया। हालांकि उस चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन कुछ खास अच्छा नहीं रहा। उसे 402 में से सिर्फ 22 सीटें ही प्राप्त हुई थी जो आज के समय में न्यूनतम हैं लेकिन कांग्रेस की डूबती नइया को संभालने का पूरा श्रेय प्रियंका को ही जाता है। इसके अलावा इससे उनके अंदर की संगठनात्मक क्षमता का भी पता चलता है। और प्रियंका के इन्हीं गुणों के चलते 23 जनवरी 2019 को प्रियंका को पूर्वी उत्तर प्रदेश के कांग्रेस पार्टी के महासचिव के रूप में नियुक्त किया गया है। 

रॉबर्ट और प्रियंका की प्रेम कहानी (Love Story Of Priyanka Gandhi And Robert Vadra)- 

Priyanka with Family, husband Robert Vadra and children

प्रियंका एक बड़े राजनीतिक घराने से थी इसलिए प्रियंका का बचपन कड़ी सुरक्षा और पाबंदियों के बीच बीता। प्रियंका के आस पास हमेशा से ही सुरक्षा के लिए गार्ड्स हुआ करते थे और इसलिए उन्हें अपने दोस्तों से मिलने का कम ही मौका मिलता था। रॉबर्ट से प्रियंका की मुलाकात उनके स्कूल में हुई थी रॉबर्ट वाड्रा प्रियंका की दोस्त के भाई थे और उसी स्कूल में पढ़ा करते थे। जब प्रियंका ने पहली बार रॉबर्ट को देखा वो तभी उनकी ओर आकर्षित हो गयी थी। प्रियंका ने खुलासा भी किया कि रॉबर्ट काफी सिम्पल (simple) इंसान थे उन्होंने पहली मुलाकात में प्रियंका को स्पेशल (special) ट्रीट ( treat) नहीं किया था। और यही बात प्रियंका को काफी पसंद आई। धीरे-धीरे रॉबर्ट और प्रियंका की दोस्ती हुई और फिर उन्हें प्यार हो गया। रॉबर्ट प्रियंका के घर भी आया जाया करते थे। और जल्दी ही उनकी दोस्ती प्रियंका के भाई यानी राहुल गाँधी से भी हो गयी थी। रॉबर्ट ने प्रियंका को शादी के लिए प्रपोज किया तो उन्होंने तुरंत हाँ कर दी। प्रियंका के घर वालों को भी इस शादी से कोई एतराज नहीं था हालांकि रॉबर्ट के पिता शुरुआत में इस रिश्ते के लिए राजी नहीं थे पर बाद में उन्होंने भी इस रिश्ते को स्वीकारा और दोनों परिवारों की मर्ज़ी से 18 फरवरी 1997 को गाँधी होम 10 जनपथ में दोनों की शादी हो गयी। और आज भी रॉबर्ट प्रियंका मुश्किल समय में एक साथ खड़े दिखाई देते हैं। 

प्रियंका गाँधी के जीवन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य (Interesting Facts About Priyanka Vadra)-

Priyanka Gandhi Vadra
  1. एक कुशल राजनेता के रूप में तो प्रियंका को सभी जानते हैं लेकिन बहुत कम लोगों को यह पता होगा कि प्रियंका को फोटोग्राफी (photography) का काफी शौक है। ये शौक उन्हें उनके पिता राजीव गाँधी से विरासत में मिला क्योंकि राजीव गाँधी को भी फोटोग्राफी का बहुत शौक है। 
  2. प्रियंका बौद्ध धर्म की अनुयायी हैं। उन्होंने विपासना (vipassana) के एक शिक्षक एस. एन. गोयंका (S.N. Goenka) से इसकी शिक्षा प्राप्त की। और फिर वह बौद्ध धर्म में परिवर्तित भी हो गयी। 
  3. प्रियंका ने महज 16 साल की उम्र में ही अपना पहला भाषण दिया था। और तब से वो कई राजनीतिक रैलियों, जुलूसों और सम्मेलनों का हिस्सा रही हैं। राजनीति में प्रत्यक्ष रूप से शामिल ना होने के बावजूद प्रियंका आम जनता के बीच काफी लोकप्रिय थी।
  4. प्रियंका साधारण जीवनशैली जीना पसंद करती हैं। 2004 में चुनाव प्रचार के दौरान प्रियंका रायबरेली में रमेश बहादुर सिंह नाम के एक आदमी के घर ठहरी थी। 2016 में रमेश ने बीबीसी (BBC) के एक इंटरव्यू में बताया कि प्रियंका प्रचार के लिए सुबह जल्दी निकलती और देर रात लौटती थी। उनके बच्चे घर में आया के पास रहते थे। एक दिन वो जल्दी लौटी और रमेश से बोलीं बच्चों को रिक्शे की सैर करवाने के लिए दो रिक्शे मिल सकते हैं। इसके बाद वो एक रिक्शे पर बच्चों के साथ बैठकर चली गयी वापस लौटने पर उन्होंने रिक्शेवालों को 50 रूपए दिए और मुस्कुराकर चली गयीं।
  5. बताया जाता है कि पहले प्रियंका गाँधी काफी गुस्सैल स्वभाव की थी पर धीरे धीरे उन्होंने अपने गुस्से पर काबू पा लिया। प्रियंका योगा और मेडिटेशन करने का शौक भी रखती हैं। 
  6. प्रियंका को किताबे पढ़ना काफी पसंद हैं। उनकी पसंदीदा किताब जवाहर लाल नेहरू की लिखी हुई ‘भारत की खोज’ (‘Discovery Of India’) है। 
  7. प्रियंका गाँधी ने अपना करिअर रेडियो ओपरेटिंग (Radio Operating) में भी बनाने की कोशिश की थी।
  8. प्रियंका राजीव गाँधी फाउंडेशन (Rajiv Gandhi Foundation) की ट्रस्टी (trustee) भी हैं।

भाषा में प्रियंका गाँधी की कमान और उनका आत्मविश्वास भारत की महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत है। जहाँ एक ओर कांग्रेस पार्टी हाशिए पर जा रही थी अब इसमें प्रियंका के आने से जोश और उम्मीद की किरण जरूर जागी हैं। 2022 लोकसभा चुनाव में ये देखना दिलचस्प होगा कि प्रियंका का डंका यूपी में कांग्रेस को सीटें दिला पाता है या नहीं। 

Leave a Reply